Wednesday, April 22, 2015

Learning togather

An experience of teaching Science in KGBV Taswaria

January 15-16, 2015 
This was my first attempt at teaching science. It was a very hard decision for me because I have not received higher education in science. In fact I am a science drop out. Almost all the KGBV (Kasturba Gandhi Balika Vidyalay) teachers are facing the same situation. The teacher who is teaching science in KGBV Taswaria is not a trained science teacher.  All the teachers in this KGBV come from arts background. After all, if these teachers can teach science then why can’t I? This encouraged me. 
The girls wanted help on the topic of ‘Cell’ which is part of their curriculum. I accepted to take up this topic in the classroom. I saw the text book. There was some basic information about the Cell. I could transact this information to the girls easily. But it did not energize me. I refused to be just a pipeline between the subject and the students. I was seeking to know more around the topic which would give me conceptual understanding and clarity.
I accessed some knowledge from the existing materials in the office library and the Internet. The Cell was the entry point of my journey. Through this, suddenly I felt that I was pushed into an ocean of micro organisms where I saw the microbes come near each other and become the essential part of life which we see around us. Friendship and encounter with ‘bacteria’ and ‘cell’ changed the structure of cells. The Cells were getting shapes, and these cells were constructing our body. This journey taught me a lesson that co-existence was the core of the beginning of life on the earth. Why then today there is a big problem of co-existence in the world?
A new research reveals that bacteria are in the process of becoming Organelles.   This process has taken millions of years. From single-cell organism to unicellular organism, this journey of evolution was a fascinating story for me. Suddenly I remembered Giju Bhai. He taught all the subjects through stories. I thought that if I put this history of cell evolution in front of the girls, in the form of a story, they would be fascinated.
I eagerly reached the KGBV. The Teachers were equipped with all the materials which were required. There were three Microscopes. Two microscopes were recently provided by Save the Children and one was older. The teachers, girls of class 8th and I came to the courtyard. There was enough sunshine which was helpful to work with the microscope and to relieve us from cold. We put the microscopes on a table in the centre of the courtyard and got some readymade slides from the science kit. We tried to set the slides into the microscopes but we failed several times. But we didn’t stop making efforts. We cleaned the lenses. There was no change. What could be done... finally we exchanged the lens of microscopes and adjusted them. Suddenly someone shouted, “I can see, there is something appearing” It was a slide of a Red Blood Cell. One by one all the slides began to be seen in the microscope- Animal cell, plant cell unicellular, multi cellular, Amoeba, hydra and bacteria. The girls could see with the magical expansion of a million times. Rows of girls began to come behind the microscopes waiting for their turn. They had to draw whatever they had seen. So they observed every slide carefully and tried to see again and again. For the first time they saw such vivid and colourful images which they had never seen before with their naked eyes. It is noteworthy that all of us, that is the teachers, students and I, had touched the microscope for the first time. We were happy because we had succeeded.

After observation we assembled again to discuss. There was no need to disclose the subject. Girls had already heard about the Cell. I directly asked the girls, “What is a cell?” girls replied, “Kisi Jeev Ki Sukshmtam Jeevit Sanrachna ko Koshika Kahte Hain.” By this response of the girls I came to understand what was needed to be done. This answer came from the textbook and had been memorized without comprehension. The challenge for me was –
·     How would the girls understand the subject going beyond the text book?
·      would they be able to relate their existing knowledge on this topic and build upon it within their own context 
·     What could be the process of building a scientific temperament?
·     Finally how can they link the issue with the other branches of knowledge like History, Literature, language and arts?      
After a little discussion I narrated the story of human evolution and the development of the theory of the Cell. I told the girls how life evolved on the earth. It took millions of years. In the beginning, life was in the unicellular form; gradually it converted to multi cellular. It also took millions of years. Simultaneously we talked about development of microscope – how it developed from single lens to light based microscope to electronic microscope. We are able to see the hidden organelle in cytoplasm with the help of the electronic microscope.
After storytelling the girls were given the task to search more about the subject in a scientific manner. Three groups were made. Girls had to do their work as follows –
·     How did the theory of the Cell evolve?
·     What are the functions of a cell?
·     How have humans benefited by the discovery of the cell?
The girls had to present their work the next day. They could access knowledge from library books, text books, internet, and take help from the warden and teachers. We had kept a condition that the presentation shouldn’t be in prose only, it should be imaginary and in an artistic manner. It could be in whatever form they wanted.
I had to leave the school premise by 5 pm as male teachers cannot stay in the school in the evening.  
Next day as I entered the KGBV I saw the girls doing their work. Yesterday’s group work extended to the mini groups and individuals. Girls were working individually and after finishing they discussed in their group; then they went to the teacher for suggestions. Books were spread all over the floor in the classroom. Girls were bent over these books with curious eyes.
One group of girls was working as an editor board. They were compiling the project work with the help of the warden.  They had determined the order of the content. After compilation the girls showed the Project. It seemed aesthetically pleasant. Its cover was also very beautiful. They put the title on it and drew a picture of a plant cell in the background as a water mark.
The story inside was articulated differently. They used several literary forms to express their thoughts.

Comics :   

As we flip the first page we can see the girls opened the issue with comic characters. Through this comic strip, two girls were talking about their mother’s illness. In the conclusion they tried to convey that all kind of illnesses happen due to some mishappening in the cells. They also ended the project in comic book style. There were two sheep conversing with each other. One of them was ‘Dolly’ which was cloned in a laboratory with genetic modification. In the comic Dolly invited another lamb on her birthday. The girls told the entire story of Dolly’s life.      

 Poem :     

Girls created 4-5 poems related to the issue. Their manifestation was so effective. Have a look –
Koshika ka hua kamal
Charon aur kar diya dhamal
Robert huck ne kiya anokha kaam
Hua vigyan ka vishv me naam...
Koshikaen jab hoti hamse naraz
Chhodna padta hamko sukh-saaz...
********
Koshika hai paadap me
Koshika hai jantu mein...
Koshika ke teen ghatak
Kaam karte vah jhatak ....
Koshika hai apne sath
Har bimari mei uska haath
Koshika ka jab hue dimaag kharaab
Kar dete hamko bhi kharaab.....
Sabse badi koshika shaturmurg ka anda
Shareer mein yadi shanti ho to
Koshika ka dimag rahta hai thanda....

 Conversation :   

Comparing and contrasting are critical science skills. Usually in every chapter of science, there is an exercise for these skills. An exercise was also given in this lesson.
Comparison of Plant Cell and Animal Cell

Exercise which is given in the text book

S.No.
Part
Plant Cell
Animal Cell
1.    
Cell membrane
Present
Present
2.    
Cell wall
Present
Absent
3.    
Nucleus


4.    
Nuclear membrane


5.    
Cytoplasm


6.    
Plastids


7.    
Vacuole


The girls did this exercise in the form of a conversation -

Plant Cell : I’ve both, a ‘Cell membrane’ and a ‘Cell’ wall, what do you have?
Animal Cell : I also have a cell membrane. But what does your cell wall do?
Plant Cell : My cell wall protects my cell membrane.
Animal Cell : Good!
Plant Cell : I have a vacuole, do you also have it?
Animal Cell : I also have vacuoles.
Plant Cell : your vacuoles are so small but I’ve got a big one. I also have   chloroplasts.
Animal Cell : I don’t need it. Please tell me, what is the function of your chloroplasts?
Plant Cell : They provide green colour to the leaves. Chlorophyll in the chloroplasts of leaves is essential for photosynthesis.


We can see the difference between the two. Girls made that exercise alive using their imagination. This will help them to build sustainable knowledge in the future. 

Drawing and painting: 

Girls made lots of drawings. Images related to science are very hard to draw. But the girls made them very colourful. These pictures seemed closer to reality. Girls enjoyed the exercise of drawing and painting.    

 Cartoons and caricatures : 

They made many cartoons and caricatures to make their project attractive and learning joyful. They made cartoons of the teacher and girls showing them observing the slides in the microscope.   
Along with all these things they designed a crossword puzzle which was based on this topic. 
During the whole process, the teachers and I felt confident in teaching science even though none of us were actually trained to teach this subject. This made us realise that anybody can teach anything provided one has the will. Girls enjoyed learning because they got a free hand to try different innovative techniques. This whole demonstration was an example of learning together- of girls and facilitators. We taught only the chapter of the cell but girls touched other lessons which were prescribed in their text book- Micro Organism and reproduction. They had also broken the walls of just sticking to the subject of Science, and touched other subjects like Language and Social Science. Overall this demonstration excited the teachers as well as those wish to try this technique in teaching other subjects too.

                         & 



Sunday, April 12, 2015

थियेटर एक्सर्साइज़ : ग्रुप डायनामिक्स 1

बॉडी हाइड 

अभी दो दिन पहले मैंने इस गतिविधि को कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की लड़कियों के साथ किया। लड़कियों ने इस गतिविधि को खूब एन्जॉय किया। इस गतिविधि के लिए 15 से 20 की संख्या का ग्रुप आदर्श रहता है। मैंने इसे 65 लड़कियों के साथ किया। बड़े समूह में सब की भागीदारी सुनिश्चि करना थोड़ा चुनौतीपूर्ण रहता है। इसके लिए आप ग्रुप में रोटेट करते रहें। 
सभी सहभागी एक घेरे में बैठें। किन्ही 10 सहभागियों को बीच में बुलाकर उन्हें चुनौती दें। सभी सहभागी किसी एक अन्य सहभागी को अपने शरीर का इस्तेमाल करते हुए अपने बीच में इस तरह छुपाएंगे कि बड़े समूह में किसी भी सदस्य को छुपे साथी का कोई भी हिस्सा नहीं दिखना चाहिए। हर बार टीम में से एक सदस्य कम करके चुनौती को बढ़ाते रहें और इसे एक सहभागी के बाकी रहने तक खेलें। देखिए यह खेल कितना रोचक हो जाता है। 
आप देखेंगे कि यह पहले चरण में भी कम मुश्किल नहीं है। लेकिन आखिर चरण तक भी सहभागी इसे सफलता पूर्वक खेलते हैं। 
कस्तूरबा विद्यालय की लड़कियों ने जब इसको खेला तो जब दस लड़कियां मिल कर एक लड़की को छुपा रहीं थीं तब भी आवाज आ रही थी कि यहाँ से नज़र आ रहा है वहां से नज़र आ रहा है। तीन चार तक आते आते संभागी शारीर के अतिरिक्त दूसरे विकल्पों पर भी सोचने लगते है- जैसे दुपट्टा रुमाल इत्यादि। आखिरी लड़की ने भी हार नहीं मानी और उसने अपने दुपट्टे के आलावा कमरे में रखी अलमारी और अपने दुपट्टे की मदद से कर दिखया। 
अपनी रोचकता के अतिरिक्त यह खेल समूह भावना को बढ़ाने में मददगार है। एक बात यह भी विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि शुरू में संभागी एक पैटर्न पर समस्या को सुलझाने चल पड़ते हैं। लेकिन एक बिंदु पर आकर यह लगता है कि अब समाधान तभी होगा जब परिपाटी से अलग जाकर विकल्पों पर गौर करें।

Monday, March 30, 2015

थिएटर एक्सर्साइज़ ( Theatre Exercise) : Mime and movement - 1

ये गतिविधियां शारीरिक अभिव्यक्ति का विकास करती हैं। अपने शरीर के द्वारा अपने सम्प्रेषण को प्रभावी बनाना इसका प्रमुख उद्देश्य है। यह अभिनेता में विभिन्न गतियों का विकास करती हैं जो किसी अभिनेता के लिए बहुत जरूरी होती हैं।  
1.   हाथ का अनुसरण
जोड़े में से एक व्यक्ति A अपनी हथेली को सामने वाले B के चेहरे से कुछ इंच दूरी पर रखेगा। अब वह अपने हाथ को धीरे-धीरे घुमाएगा। B अपने शरीर को उसी के अनुसार घूमते हुए अपने चेहरे को को समान दूरी पर बनाए रखे। कुछ समय के बाद आपस मे बदल कर करें । तीन के साथ भी कर सकते हैं जिसमे बारी-बारी से लीड कर सकते हैं।
2.   नाक का अनुसरण
यह पूरे समूह के लिए एक मूवमेंट एक्सर्साइज है। पूरे हॉल में घूमें, स्पेस का इस्तेमाल करें, गति को बदलते हुए, दूसरों को छूने से बचते हुए। अब अपने नाक पर ध्यान दें। आप चलने में नाक का अनुसरण कर रहे है। जहां नाक ले जा रही है वहीं आप जा रहे हैं। शरीर के अन्य अंगों पर फोकस करते हुए इस गतिविधि को आगे बढ़ाएँ। यह गतिविधि डांस और फ़िजिकल थियेटर के लिए बहुत उपयोगी है। विभिन्न चरित्रों के अनुसार उनकी गति के आइडिया कैसे लेने हैं। इसमे यह गतिविधि मदद करती है। अब कोशिश करें पेट, पैर की चिटकी उंगली, घुटना और पीठ इत्यादि का अनुसरण करें

Sunday, March 29, 2015

विश्व रंगमंच दिवस : समस्याओं से जूझता अलवर का रंगमंच

27 मार्च 2015 को अलवर में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। अभावों से जूझ रहे अलवर रंगमंच में यह विस्मित कर देने वाली बात थी कि इस दिन दो स्थानों पर, दो संस्थाओं पर अलग-अलग विचार गोष्टियां आयोजित हुई। अरावली आर्टिस्ट अकादमी द्वारा कलाभारती रंगमंच व इप्टा, अलवर द्वारा राज गुप्ता सभागार में आयोजन किया। दो-दो गोष्ठियां होना अलवर रंगकर्म की सक्रियता की निशानी कतई नहीं है। बल्कि इस बात की सूचक है कि अलवर के मुट्ठी भर रंगकर्मी विभाजित हैं। यूँ तो दो आयोजन होना किसी भी दृष्टि से अनुचित नहीं। लेकिन इससे जहाँ रंगकर्मी बंटता है उसके साथ दर्शक भी। 
लिहाज़ा मुझे इप्टा की ओर से आमंत्रण मिला तथा उसी में शिरकत कर पाया। यहाँ इस गोष्ठी में हुई प्रमुख बातों को यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है। मेरे लिए प्रमुख बात यह थी कि लगभग 10 सालों बाद जीवन सिंह मानवी जी को सुनने का मौका मिला। जब मैं कॉलेज में पढ़ रहा था तब मानवी जी हमारे प्राचार्य हुआ करते थे, और उन्ही दिनों वे सेवा निवृत्त हुए थे। यह उनका एक परिचय है, साहित्य जगत में वे एक प्रगतिशील चिंतक के रूप में जाने जाते है। उनके शरीर पर तो वृद्धावस्था का असर साफ देखा जा सकता है लेकिन उनकी वाणी में उम्र का बिलकुल भी असर दिखाई नहीं देता। उनका एक और रूप है जिससे बहुत से लोग इस गोष्ठी में परिचित हुए कि वे 30-35 वर्षों से हर साल अपने गांव की रामलीला में शामिल होने जाते रहे हैं। यही नहीं इसके साथ ही वे अपने गांव की रामलीला में रावण का किरदार निभाते रहे हैं। युवा रंगकर्मियों की ज़िद पर उन्होंने रावण शरूपनखा का प्रसंग अभिनीत करके भी दिखाया। उनके रंगकर्म के लिए समर्पण से नयी पीढ़ी के रंगकर्मी अवश्य प्रेरणा ले सकते है।
मानवी जी ने बताया नाटक लोकशिक्षण का बड़ा मज़बूत माध्यम है। उन्होंने बताया कि किस चतुराई से उनके गाँव की रामलीला मंचन में समसामयिक सन्दर्भों को जोड़ दिया जाता था। उन्होंने बताया कि कब रावण का दरबार सरकार की आर्थिक नीतियों की समीक्षा का मंच बन जाता था। कैसे रावण का मंत्री मंडल आधुनिक मंत्रिमंडल का रूपक बन जाता था।
उन्होंने बताया कि रंगमंच की सबसे बड़ी समस्या है कि रंगकर्मी दर्शकों को रसानुभूति करवाने में विफल रहे हैं। भरत मुनि ने नाटक में रस को प्रधान बताया है। उन्होंने कहा कि अभिनेता दर्शक के दिल के स्थायी भाव को जगाकर उसे रसानुभूति करवाने में विफल रहा है। उन्होंने कहा सच्चा नाटक तभी होता है जब नाटककार, अभिनेता व दर्शक का हृदय एक हो जाता है। उन्होंने साधारणीकरण पर प्रकाश डालते हुए बताया कि उनके गांव की रामलीला हज़ारों लोगों को इसी वजह से जोड़ पाती थी। नाटक के एक दूसरे पहलु पर रौशनी डालते हुए उन्होंने कहा कि उनकी रामलीला को देखने मुस्लिम औरते भी आती हैं। एक बार सांप्रदायिक माहौल बिगड़ा जिसकी वजह से गांव में कर्फ्यू लगा। उन्होंने बताया कर्फ्यू के बावजूद मुस्लिम महिलाऐं रामलीला देखने आईं। जिससे सशक्त सन्देश गया कि नाटक सांप्रदायिक दूरियां पाटने में बड़ी भूमिका निभाता है।
गोष्ठी का विषय था - समस्याओं से जूझता अलवर का रंगमंच। वरिष्ठ साहित्यकार रेवती रमण शर्मा ने विषय प्रवेश कराया। इसके पश्चात् विभिन्न वक्ताओं ने अपने-अपने विचार रखे। प्रो. नंदकिशोर नीलम, प्रो.रमेश बैरवा, प्रो. नीलाभ पंडित, दलीप वैरागी, गणेश जोशी, राज गुप्ता व मनीष जैन ने वक्ता के रूप में भाग लिया। सभी के वक्तव्यों से जो बात निकल कर आई कि जिन्हें हम अलवर रंगकर्म की समस्याएं कह रहे हैं वे दरअसल सार्वभौमिक समस्याएं हैं।  आज भी रंगकर्म को सम्मानजनक प्रोफेशन के रूप में स्वीकार नहीं किया जा रहा है। इस कारण से नयी पीढ़ी रंगमंच से नहीं जुड़ रही है। नयी पीढ़ी सिनेमा व रंगमंच की और आकृष्ट हो रही है, कुछ वक्ताओं के द्वारा यह चिंता भी व्यक्त की गई। नव निर्मित ऑडिटोरियम की कीमतों के रंगकर्मियों की पहुँच से बाहर होने के मुद्दे पर विचार रखते हुए वक्ताओं ने कहा कि उसकी कीमत कम होने के इंतज़ार में बैठे नहीं रहना चाहिए, बल्कि जहाँ भी जगह मिले वहीं सीमित साधनों में भी नाटक करने चाहिए और निरंतरता से करने चाहिए तभी रंगकर्म आगे बढ़ेगा।
गोष्टी के आखिर में इप्टा, अलवर के अध्यक्ष श्री कान्ति जैन ने सबका आभार व्यक्त किया। मेरे नज़रिये से अपने उद्देश्य में यह विचार गोष्टी सफल रही। 
 

Saturday, March 28, 2015

नाटक संभावनाओं का मंच ( भाग 5 ) : भरत वाक्य

भरत वाक्य: शिक्षक विद्यालय में क्या करें
कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय में किस तरह के नाटक किए जा सकते हैं? इसका जवाब यह हो सकता है कि बस आपको लड़कियों के साथ नाटक की शुरुआत करनी है। यह शुरुआत कहीं से भी कर सकते हैं, कभी भी कर सकते हैं। आप इस पर्चे को पढ़ने के अगले चंद घंटों में शुरु कर सकते हैं, जिस दिन आपका
स्कूल का सत्र शुरु हो उस दिन कर सकते हैं या सत्र के किसी भी दिन कर सकते हैं, कक्षा में कर सकते हैं, विद्यालय के मैदान में  कर सकते हैं, पुस्तकालय में कर सकते हैं या हॉस्टल  में कर सकते हैं।
सवाल शुरुआत का है। उसके बाद प्रक्रिया में तौर-तरीके आपकी रोज़मर्रा की पाठ्यचर्या वाले ही हैं। नाट्य प्रक्रिया में हमें  सबसे पहले अपनी पाठ्यचर्या के लक्ष्य को अपने ज़हन में रखना है। उसके हिसाब से नाटक की विषयवस्तु व प्रक्रिया चुन सकते हैं। और, इसी प्रक्रिया में आपको नाट्य-निर्देशक के साथ एक शिक्षक की पारखी नज़र भी रखनी है। साथ-साथ यह आकलन भी करते जाना है कि प्रक्रिया के दौरान या उसके पश्चात् क्या शिक्षा के उन उद्देश्यों के सूचक दिखाई दे रहे हैं या नहीं, जिनका जि़क्र हम प्रस्तावना में कर चुके हैं। यहाँ नाटक शुरू करने से पहले देखना पडे़गा कि लड़कियों की ताकत क्या है, वे इस उम्र में क्या महसूस करती हैं, उन्हें क्या करना अच्छा लगता है? इसी के आधार पर नाटक की गतिविधियाँ व विषय-चयन में मदद मिल सकती है।
अजमेर व बीकानेर जि़ले के केजीबीवी में जो कार्यशालाएँ हमने लड़कियों के साथ की हैं, उन अनुभवों से जो सैद्धांतिक समझ उभर कर आई है, उसे यहाँ संक्षेप में आपकी सुविधा के लिए दिया जा रहा है। इन कार्यशालाओं में प्रमुख नाट्य रुपों - क्रिएटिव ड्रामा फॉर्मल थियेटर को मिलेजुले रूप से करने की कोशिश की गई है। इसे शिक्षिका या वे जो लड़कियों के साथ काम करने को उत्साहित हों, कर सकते हैं। शिक्षिकाएँ चाहें तो इन दोनों विधाओं को सतत  अपने शिक्षण का हिस्सा बनाएँ। या फिर इसे सप्ताह भर या उससे ज़्यादा दिन की कार्यशाला के रूप में कर सकती हैं। अगर इसे कार्यशाला के रूप में किया जाता है, तो सप्ताह भर में जो लड़कियाँ मिलकर काम करेंगी और इस सप्ताह भर की रचनाशीलता में जो ऊर्जा व आनंद उभर कर आएगा, वह किसी उत्सव या शैक्षणिक मेले-सा अहसास करवायेगा। यह ध्यान देने की बात है कि नाटक केजीबीवी में वन-टाइम यानी एक बार होने वाली गतिविधि बन कर नही रहनी चाहिए। अपनी सततता में ही यह विधा असरदार है। निरंतरता के अभ्यास ही पकी हुई आदतों को तोड़ सकते हैं।
1. रचनात्मक नाटक (क्लासरूम ड्रामा)
रचनात्मक नाटक की शुरुआत हमारे छुटपन मेंघर-घर खेलने से हो जाती है। रचनात्मक नाटक के आधार में बचपन के नाटकीय खेल हैं। बच्चों के मुक्त नाटकीय खेलों में उन्हें दुनिया जैसी दिखाई देती है, जैसा वे उसे समझते हैं व जो चरित्र उनके इर्द-गिर्द हैं, वे उनकी नकल करने की कोशिश करते हैं। इसे बच्चे बिना किसी बाहरी दखल के स्वतः व स्वाभाविक रूप से सहजतापूर्वक कर लेते हैं। यह मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति होती है, खास तौर से छुटपन में। नाटक के लिए जिस आवेग व उत्साह की ज़रूरत होती है, उसकी बुनियाद है इंसान के अनुभव, जो एजुकेशनल ड्रामा यानी शिक्षा प्रदान करने वाली नाट्य गतिविधि के लिए बेहद आवश्यक हैं। इसकी प्रकृति में ही कन्स्ट्रक्टिविस्ट अप्रोच यानी ज्ञान के सृजन की पहल है। बच्चों के नाटकीय खेल उन्हें अवसर प्रदान करते हैं कि वे दुनिया को अपने नज़रिये से देखें व समझें। बच्चों की नाटक करने की यह अद्भुत क्षमता तब अपने चरम पर होती है, जब वे अपने घर-परिवेश में होते हैं। लेकिन, विडम्बना यह है कि विद्यालय में आने पर इस नैसर्गिक-क्षमता को प्रायः विद्यालय जाने -अनजाने में नज़रअंदाज़ करना शुरू कर देते हैं। किशोरावस्था आते-आते लगभग यह स्वाभाविक स्रोत लुप्तप्रायः हो जाता है। बच्चे दुनिया को अपने तरीके से देखने-समझने के बजाए एक कृत्रिम तरीके से देखना शुरू कर देते हैं। अभिव्यक्ति का सोता सूख जाता है। और उसके स्थान पर एक झिझक आ बैठती है, जबकि यह आयु ऐसी है जब किशोरों के पास अनुभवों का एक समृद्ध संसार है, अपना नज़रिया विकसित हो चुका है, सोचने समझने का जज़्बा भी है। ऐसी स्थिति में उस अभिनय कौशल का ज़बर्दस्त इस्तेमाल किया जा सकता हैं, जो स्वाभाविक रूप से उसमें बचपन से ही विद्यमान है।
नाटक को कक्षा में ले जाने के पीछे जो महत्त्वपूर्ण विचार है, वह यह है कि इससे रचनाशीलता व कल्पनाशीलता इत्यादि क्षमताओं को विकसित किया जा सकता है, जिनकी शुरूआत बचपन के स्वाभाविक नाटकों में हुई थी। आज के समाज में ये बेहद ज़रूरी कौशल के रूप में देखे जा रहे हैं, न केवल कलाकार के लिए बल्कि एक आम इंसान के जीवन में भी। लेकिन, इनके अभ्यास कक्षा में दिखाई नहीं पड़ते हैं। इन्हें उभारने के परिप्रेक्ष्य में नाट्यकला एक आईने का काम करती है, जिससे बच्चों में समीकक्षात्मक रूप से समाज व मानव के अनुभवों का विश्लेषण करते हुए मानवता व दुनिया की गहरी समझ पैदा होती है।
क्लासरूम ड्रामा के संदर्भ में उल्लेखनीय है कि क्रिएटिव ड्रामा यानी रचनात्मक नाटक व फॉर्मल थियेटर यानी औपचारिक रंगमंच में थोड़ा फ़र्क है। रचनात्मक नाटक में इंप्रोवाइज़ेशन के साथ प्रक्रिया प्रधान होती है, नाटक का प्रदर्शन पक्ष इसमें महत्त्वपूर्ण नहीं होता। इसमें अभिनेता-छात्राएँ, शिक्षक के सहयोग से अभिनय प्रक्रिया में शामिल होकर मनुष्य के अनुभवों का विश्लेषण करते हुए अभिनय करते हैं। रचनात्मक नाटक, चाहे कक्षा में हो या इसके अतिरिक्त, यह सुनिश्चित है कि इसमें हमेशा इम्प्रोवाइज़ेशन यानी कुछ न कुछ तब्दीली बेहतर प्रस्तुति के लिए होगी। इसमें अभिनेता जो भी संवाद करते हैं वह दर्शकों के उद्देश्य से नहीं होता है। इसमें अभिनेता एक कुशल शिक्षक द्वारा निर्देशित होते हैं न कि किसी पेशेवर नाट्य-निर्देशक द्वारा। इसके विपरीत फॉर्मल थिएटर एक फॉर्मल प्रोडक्शन होता है जहाँ केंद्र में दर्शकों का मनोरंजन ही होता है। यहाँ बहुधा संवाद रटे या याद किए जाते हैं। ज़्यादातर निर्देशक प्रोडक्शन यानी प्रस्तुति के बारे में निर्देश देता है।
रचनात्मक नाटक पूरी तरह से प्रक्रिया आधारित है। इसका ज़ोर विद्यार्थी में कौशल-निर्माण पर रहता है कि बच्चे में खुद के बारे में व अपने परिवेश के बारे में नई समझ बने। अपने शरीर व आवाज़ को वह नए तरीके से सम्प्रेषण का ज़रिया बनाए। एक जटिल नाट्यलेख से गुज़रना, भूमिका निर्धारित करना, एक फिनिश्ड प्राॅडक्ट यानी एक तैयार की जाने वाली प्रस्तुति के लिए काम करना इत्यादि से रचनात्मक नाटक विद्यार्थियों को छूट देता है कि वे सृजनशीलता के खूब मौके हासिल करें और उनकी समझ को पुख्ता करें। यह औपचारिक नाटक की बुनियाद है। बच्चों को किसी प्रस्तुति की चुनौती देने से पहले यह ज़रूरी है कि वे पहले रंगमंच की बुनियादी अवधारणाओं को जानें। वे यह थिएट्रिकल स्किल और ज्ञान अपने अनुभवों से सृजित करें जो रचनात्मक नाटक देता है। रचनात्मक नाटकों को कक्षा में सृजित करने में कुछ नाट्य तकनीकें मददगार हो सकती हैं। ये नाट्य तकनीकें चरित्र की परतों की पड़ताल करने, घटनाओं व स्थितियों का विश्लेषण करने व समस्या समाधान में सहायक होती हैं।
2. औपचारिक नाटक (फॉर्मल थिएटर)
यह रंगमंच का वह रूप है जो परंपरागत रूप से हमारे सामने आता है। इस प्रकार के रंगमंच में प्रस्तुति प्रधान होती है। प्रस्तुति दर्शकों को ध्यान में रख कर तैयार की जाती है। अनवरत अभ्यास से उसे तैयार कर दर्शकों के सामने पेश किया जाता है। वर्तमान में विद्यालयों में इस तरह का रंगमंच देखने को मिलता है। विद्यालय के उत्सवों पर बच्चों की मंडली बनाकर उत्सव वाले दिन इसे सबके सामने दिखाया जाता है। अक्सर, इसे जैसे-तैसे अपनी भूमिका की पंक्तियाँ याद कर प्रस्तुति देने तक सीमित कर दिया जाता है। अगर इस रंगमंच की संभावनाओं पर ध्यान दिया जाए तो इससे स्कूल में बेहतर शैक्षणिक प्रयोग हो सकते हैं। प्रायः नाटक जहाँ विद्यार्थियों में सोचने, समझने व विश्लेषण करने का कौशल विकसित करता है, वहीं औपचारिक नाटक में एंड प्राॅडक्ट यानी जो दर्शाई जाने वाली प्रस्तुति है पर जो आग्रह रहता है, वह विद्यार्थियों में एक्सिलेन्स यानी श्रेष्ठता की ओर जाने के मूल्य का बीजारोपण करता है। राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा में कला के उद्देश्यों में एस्थेटिक अप्रिसिएशन यानी सौंदर्य बोध के मूल्य, जिन्हें विद्यार्थियों में विकसित करने की अपेक्षा की जाती है, वह इसी उत्कृष्टता के प्रति आग्रह से ही आती है। प्रस्तुतिन को उत्कृष्टता की ओर ले जाने का जो साधन अभिनेता के पास होता है वह है- उसका मन व शरीर। मन व शरीर को साधने के यहाँ बहुत बारीक व सतत अभ्यास हैं। ये अभ्यास हमारी धँसी हुई आदतों को तोड़ने का काम करते हैं।
पहले से निर्धारित आलेख पर काम करते हुए आगे बढ़ना एक ज़बर्दस्त अनुशासन है, जो एक मानक भाषा तक विद्यार्थियों को लाने में सहायक है। यह इतने अभ्यास देता है कि जब तक चरित्र व भावानुकूल अभिव्यक्ति नहीं होती, तब तक चैन से नहीं बैठो। यही सतत अभ्यास उच्चारण व सम्प्रेषण के घपलों को दूर करता है। उदाहरण के तौर पर देखें तो राजस्थान के पाली व सिरोही जि़लों में ध्वनि को को बोलते हैं जैसे चम्मच को सम्मस। इसी तरह जोधपुर जि़ले में को बोलने का चलन है। अगर पूरे राजस्थान के संदर्भ में देखा जाए तो का आपस में बहुत घपला है।
ये जो पकी हुई आदतें हैं, ये किसी कक्षा में महज़ बता देने या चेता देने भर से नहीं टूटेंगी। इनके बहुत सचेत व अनुशासित अभ्यास होने चाहिए। क्योंकि, ये आदतें ज़िंदगी के रास्ते पर चलते हुए भाषा में आती हैं। इसलिए इन आदतों को तोड़ने का ज़रिया भी ज़िंदगी की तरह ही हो। यह अभ्यास व मौका औपचारिक नाटक में एक निर्धारित आलेख देता है, जहाँ संवादों के देखे-परखे अभ्यास होते हैं। कहाँ बोलना है, कहाँ रुकना है, कहाँ ज़ोर देना है, यह बारीकी से देखा जाता है। इन अभ्यासों पर काम करने के बाद जब कलाकार प्रस्तुति तक पहुँचता है तो वह एक प्रवाहमायी भाषा के साथ होता है। वही भाषा जिसे स्कूल में सिखाना हमारा पहला ध्येय है। अगर केजीबीवी के संदर्भ में देखें तो इसमें आने वाली लड़कियों के लिए हिन्दी दूसरी भाषा ही होती है। केवल नाटक ही एक ऐसा माध्यम है जो इन लड़कियों को शीघ्रता से मानक हिन्दी भाषा से सहजता से परिचित करवा सकता है, वह भी कौशल के स्तर पर।


 औपचारिक नाटक की जो एक और खूबी है, वह है इसका कथोपकथन विधान। कथोपकथन के लिए ज़रूरी है कि पहले पूर्व के कलाकार की लाइनों को सुना जाए, उसको सुनने के बाद ही अपनी लाइनें बोली जाएँ। नाटक में आप दूसरे को सुने बगैर खुद नहीं बोल सकते हैं। नाटक में शुरू से आखिर तक यह ज़बर्दस्त अनुशासन है। नाटक निर्माण-प्रक्रिया में जब हम इस अनुशासन से गुज़रते हैं, तब अवचेतन में सम्प्रेषण के मूल्य अंकित हो रहे होते हैं, जो बाद में सामाजिक जीवन में परिलक्षित होते हैं। यही सम्प्रेषण के मूल्य हमें वह नागरिक देते हैं जो सामने वाले का एक वक्ता के तौर पर, उससे बढ़ कर एक इंसान के तौर पर सम्मान करता है, उसे सुनता है, उसके बोलने की आज़ादी को तवज्जो देता है और उसे सुनने के पश्चात् अपना मत रखता है।

Wednesday, March 25, 2015

थियेटर एक्सर्साइज़ (Theatre exercise-2) : स्थायी पता


यह एक पुरानी गतिविधि ही है जिसे ग्रुप में सहजता लाने के लिए किया जाता है। मैंने इसके प्रयोजन के अनुसार नामकरण करने की कोशिश की है। किसी भी कार्यशाला या प्रशिक्षण में जब नए समभागी हमारे पास आते हैं तो वे अलग गाँव, जाति, धर्म, उम्र, जेंडर व आर्थिक स्थिति से आते हैं। प्रशिक्षण के दौरान भी वे अपने सामाजिक समूहों में ही सीमित होकर रह जाते हैं। परिचय की गतिविधियों से हालांकि वे अपने दरों को बढ़ाते हैं फिर भी वे जब बड़े समूह में बैठते हैं तो अपने सामाजिक संदर्भों वाले समूहों में ही सहजता महसूस करते हैं। वे इस स्थिति को तोड़ कर वे दूसरे लोगों से घुलें-मिलें इसके लिए यह गतिविधि उपयोगी हो सकती है।
संभागियों को हॉल के अंदर संगीत की धुन पर चहलकादमी करने के लिए कहें। संभागी निर्देशक के निर्देशों को सुनकर वैसा करें –
·     उम्र की वरीयता के अनुसार कतार में खड़े होना
·     भाई-बहनों की संख्या के क्रम में खड़े होना
·     वर्णमाला के क्रम में नाम के प्रथमाक्षर के अनुसार खड़े होना

अंतत: जब लगे कि निर्देशक को मनवांछित बैठक व्यवस्था मिल गई है तो वह संभागियों को कहे कि वे अपने अगल बगल वाले व्यक्ति को पहचान ले कि कौन दायीं और है कौन बाईं और है।  उन्हें आपस में हल्का सा परिचय को भी कहें। अब फिर से संभागियों को संगीत पर घूमने के लिए कहें । पुन: पहले वाली स्थिति में आने के लिए कहें। अगर थोड़ी चूक हाओटी है तो एक बार और कर के देख लें। अब संबगियों को इसी क्रम में घेरे में बैठने के लिए कहें। यह भी उन्हे कह दे कि यह इस कार्यशाला में आपका स्थायी पता है। जब जरूरत पड़े तो बादल भी सकते हैं। 

रंगमंचीय गतिविधियां एवं अभ्यास (Theatre exercises) -1 : (Image) इमेज


इसका  प्रवर्तन ब्राज़ील के नाट्य निर्देशक अगस्टो बोल ने किया था। उन्होने इस रंगमंचीय तकनीक को समाज के वंचित दलित लोगों की आवाज को उठाने के लिए किया, जिस रंगमंच को उन्होने “थियेटर ऑफ ओप्रेस्ड ” (Theatre of the oppressed) का नाम दिया। मेरा इस विधा से परिचय फ्रांस के निर्देशक जोम्पियर बेसनार्ड ने लगभग 15 साल पहले एक कार्य शाला में करवाया था।
इस exercise में अभिनेताओं या बच्चों को 7-10 के समूह में किसी सामाजिक स्थिति पर एक फ्रीज़ इमेज यानि झांकी बनाकर लाने के लिए कहें। इस झांकी में उन्हे चुनौती दें कि स्थिति को इस प्रकार प्रदर्शित करें कि कि उसमें समाज में विद्यमान गैर बराबरी साफ दिखाई दे। प्रदर्शन के वक्त दर्शकों से पूछा जाए कि आपको इस झांकी में किस तरह का पवार समीकरण, समस्या या शोषण दिखाई दे रहा है। जब यह स्पष्ट हो जाए तो दर्शकों से उस इमेज को बादल कर आदर्श इमेज में परिवर्तित करने के लिए कहें। याद रहे कि जा भी समाधान दर्शक द्वारा बताए जाएँ वो यथार्थ हों व उनके पीछे कोई तार्किक आधार हो। कोशिश यह रहनी चाहिए कि एक अच्छी ख़ासी चर्चा शुरू हो सके।
यह गतिविधि समाज के यथार्थ को तटस्थता से समझने में विद्यार्थियों की मदद कर सकती है। उन्हे समस्या समाधान के अभ्यास देती है।  
इस गतिविधि से पूर्व यदि वार्म अप के लिए स्टेचू वाली गतिविधि करवाएँगे तो बेहतर रहेगा।


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...